April 8, Day Saturday, हमने सोचा ट्रिप जाएगे!

SMS कल्याणी का आके कहता है, नही जाएगे नही जाएगे
कारण पूछा कल्याणी से तो मां का BP हाइ बताया
इस कारण से मैने खुद को, थोड़ा सा असमंजस में पाया

फोन लगाया अरुण को मैने, फोन ने खुद बिज़ी बताया
ट्राइ किया जब हर्षा जी को उनको भी विजिनेस मे पाया

अब बारी थी सिरी वर्मा की सोचा क्यो ना फोन करूँ मै
पर जब मैने, फोन लगाया, नंबर को उसमे ना पाया

सोचा क्यो ना कविता लिखलूँ , फोन कभी अरुण का आया
अपने आप तो ब्रिज के पास बताके मुझको आने को समझाया

यात्रा सुरू हुई मेरी ब्रिज से रास्ते का मैने लुफ्त उठाया

टाउन हॉल पर आके मैने फिरसे सिरी वर्मा को फोन लगाया

फोन पर उसने अपने आपको गाँधीनगर मे बताया
तथा जल्दी आने मे उसने, अपने आप को असमर्थ बताया

११ बजे के आस पास सिरी वर्मा ने अपने आप तो भूखा पाया
होटेल मे जकारके उसने एडली बड़ा को भोग लगाया

रास्ते मे, बाइक पर जाते जाते, हम सवने गाना भी गाया
और रास्ते मे हम सबने wonderla का लुफ्ट उठाया!!

अरविंद कुमार भारद्वाज

Advertisements